केजरीवाल के शपथ ग्रहण समारोह के लिए ‘दिल्ली बीजेपी’ को न्योता भेजा था, पहुंचे सिर्फ एक नेता

विजेंद्र गुप्ता. बीजेपी के सीनियर नेता. रोहिणी से विधायक. केजरीवाल के शपथ ग्रहण समारोह में पहुंचने वाले विपक्ष के इकलौते नेता. 16 फरवरी को अरविंद केजरीवाल ने तीसरी बार सीएम पद की शपथ ली. इस शपथ ग्रहण समारोह में आम आदमी पार्टी ने बीजेपी के आठों विधायकों, सांसदों और बीजेपी के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी को न्योता दिया था. इसके अलावा पीएम मोदी को भी निमंत्रण भेजा था, लेकिन कोई नहीं आया. सिवाय विजेंद्र गुप्ता के.

Arvind Kejriwal: Some people say Kejriwal is giving everything for free. Nature has ensured every valuable thing in the world is free, be it Mother’s love, father’s blessings or Shravan Kumar’s dedication. So, Kejriwal loves his people.

उन्होंने कहा,

उम्मीद है कि अरविंद केजरीवाल पुरानी गलतियों को सुधारेंगे. जो शिक्षकों के मामले में उन्होंने किया, वह दुर्भाग्यपूर्ण है. यह कहीं न कहीं उस मानसिकता को दर्शाता है, जिसमें तानाशाही झलकती है. जीत और सफलता का मंत्र होता है कि झुक कर चलें.

वहीं, पीएम मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में नहीं आने पर अरविंद केजरीवाल ने कहा,

मैंने पीएम को भी न्योता भेजा था वे कहीं और व्यस्त हैं आ नहीं पाए. लेकिन मैं इस मंच से दिल्ली को आगे बढ़ाने के लिए पीएम का भी आशीर्वाद चाहता हूं.

अरविंद केजरीवाल के साथ 6 मंत्रियों ने भी शपथ ली. केजरीवाल के साथ मनीष सिसोदिया, सत्येंद्र जैन, गोपाल राय, कैलाश गहलोत, इमरान हुसैन और राजेंद्र पाल गौतम ने भी मंत्री पद की शपथ ली. इस शपथ ग्रहण समारोह में विपक्ष का कोई नेता नहीं दिखा. हालांकि आम आदमी पार्टी की सरकार ने शपथ ग्रहण के लिए दिल्ली के 50 निर्माताओं को बुलाया था. इनमें से कुछ लोगों का केजरीवाल ने अपने भाषण में जिक्र भी किया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *