Malang movie reviews…..

निर्देशक के रूप में मोहित सूरी का ट्रैक रेकॉर्ड शानदार रहा है, तो जाहिर है, वे जब मलंग लेकर आते हैं तो उनसे उम्मीदें भी उतनी ही बावस्ता होती हैं। मोहित की इस फिल्म में आपको परफॉर्मेंस तो दमदार मिलती है, मगर कहानी में उनकी कई फिल्मों का मिश्रण नजर आता है।

फिल्म की कहानी जेल में दूसरे कैदियों को अधमरा करनेवाले अद्वैत (आदित्य रॉय कपूर) से होती है। वह जेल से छूटता है और पुलिस अफसर अंजनी अगाशे को फोन करके कहता है कि उसे एक मर्डर रिपोर्ट करना है, जो होने जा रहा है। उसके बाद पुलिस वालों के खौफनाक कत्ल का सिलसिला शुरू होता है। इस बीच कहानी फ्लैशबैक में भी जाती है, जहां अद्वैत गोवा की एक अडवेंचर्स ट्रिप में हिप्पी टाइप की लड़की सारा (दिशा पाटनी) से मिला था। लंदन से आई मस्तमौला सारा अद्वैत को जिंदगी जीना सिखाती है। दोनों एक-दूसरे के साथ खुश हैं, तभी उनकी जिंदगी में तूफान आ जाता है।

यहां प्रजेंट में पुलिसवालों के मर्डर का सिलसिला थम ही नहीं रहा है। अपने साथी पुलिसवालों की सिलिसिलेवार हत्याओं के केस को सुलझाने में अंजनी के साथ माइकल रॉड्रिक्स (कुणाल खेमू) भी जुटा हुआ है। अद्वैत पुलिसवालों को क्यों मार रहा है? यह जानने के लिए आपको फिल्म देखनी होगी।

निर्देशक के रूप में मोहित सूरी इस तरह की थ्रिलर फिल्मों में माहिर हैं। यही वजह है कि कहानी की शुरुआत थ्रिलिंग अंदाज में होती है, मगर फिल्म में फ्लैशबैक के सीन्स थ्रिलर के पेस में व्यवधान साबित होते हैं। जैसे-जैसे कहानी आगे बढ़ती है, आपको ‘एक विलन’ और ‘मर्डर’ की झलकियां नजर आने लगती हैं। इंटरवल के बाद कहानी गति पकड़ती है, मगर फिर वह प्रिडक्टिबल हो जाती है। मोहित ने कई जगहों पर सिनेमैटिक लिबर्टी ली हैं। क्लाइमैक्स सुखद होने के बावजूद चौंकाता नहीं है। वेद शर्मा के संगीत में मलंग का टाइटिल ट्रैक प्रभावी बन पड़ा है। रेडियो मिर्ची के टॉप ट्वेंटी में यह 6 ठे पायदान पर है। विकास शिवरामन की सिनेमटॉग्रफी थ्रिल में इजाफा करती है। राजू सिंह का बैकग्राउंड स्कोर जबरदस्त है।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *